होमकृषिFish Farming: मछली पालन घर पर कैसे कर सकते है?

Fish Farming: मछली पालन घर पर कैसे कर सकते है?

मछली पालन (Fish Farming) हमारे देश के प्रमुख व्यवसायों में से एक है इसकी मुख्य वजह है की इसे बड़े आसानी से ग्रामीण क्षेत्रो में किया जा सकता है । मछली पालन में वैसे तो खुली जगह में किया जाता है लेकिन आज हम आपको बता रहे है की इसे आप बंद स्थान पर भी कर सकते है।

मछली पालन (Fish Farming) घर पर कैसे करें

इंडोर फिश फार्मिंग के लिए सबसे पहले पानी की व्यवस्था करनी होती है चूँकि मछली पानी में ही पलती है इसलिए ये बहुत जरुरी हो जाता है की उनके लिए ताजा पानी को संरक्षित करे।

इसके लिए आप वाटर टैंक का इस्तेमाल कर सकते है , आप इसके लिए घर में ही अपने सुविधा अनुसार टैब का निर्माण कर सकते है, इसको ऐसे बनाये की उसमे से पानी का निकास हो सके, एक वाटर पंप की जरुरत पड़ेगी जिससे आप पानी को स्टोर कर सके।

पानी को रोकने की व्यवस्था के बाद आपको फिश के बच्चे ( Baby Fish ) की जरुरत पड़ती है। बच्चो को खरीदने से पहले अच्छी तरह से जाँच पड़ताल कर ले , मछली की 28,500 प्रजातियाँ पाई जाती हैं इसलिए इसका चयन करते वक़्त एक्सपर्ट की राय जरूर ले ले। फिर आप अपने चयन किये गए बेबी फिश के हिसाब से उसके भोजन ( मछली दाना ) की व्यवस्था कर ले। आपको समय समय पर दाना देने के साथ पानी का भी परीक्षण करना होगा ताकि मछली स्वस्थ रह सके।


मछली पालन (Fish Farming) के लिए सबसे बड़ी समस्या उनके बिच फैलने वाला संक्रमण है जिससे मछलियों को बचा कर रखना बहुत जरुरी है।
समय रहते अगर संक्रमित मछलियों को बाहर निकालकर उनका इलाज नहीं किया गया तो सभी मछलिया उसके चपेट में आ सकती है।

यह भी पढ़े: पॉलीहाउस फार्मिंग कैसे करे?

कैसे जाने की मछली संक्रमित है ?

  • बीमार मछली समूह में न रहकर किनारे पर अलग-थलग दिखाई देती है, वे शिथिल हो जाती है।
  • बेचैनी, अनियंत्रित तैरती हैं।
  • अपने शरीर को बंधान के किनारे या पानी में गड़े बाँस के ठूँठ से बार-बार रगड़ना।
  • पानी में बार-बार कूद कर पानी को छलकाना।
  • मुँह खोलकर बार-बार वायु अन्दर लेने का प्रयास करना।
  • पानी में बार-बार गोल-गोल घूमना।
  • भोजन न करना।
  • पानी में सीधा टंगे रहना , कभी-कभी उल्टी भी हो जाती है।
  • मछली के शरीर का रंग फीका पड़ जाता है। चमक कम हो जाती है तथा शरीर पर श्लेष्मिक द्रव के स्त्राव से शरीर चिपचिपा चिकना हो जाता है।

संक्रमित मछलियों का इलाज

जिन मछलियों में वायरल संक्रमण होने का संदेह हो, उन्हें अन्य मछलियों में फैलने से रोकने के लिए मछलीघर से तुरंत हटा दिया जाना चाहिए। यदि संक्रमण बैक्टीरिया या परजीवी है और वायरस नहीं है तो एक संगरोध मछलीघर में एंटीबायोटिक दवाओं या परजीवी विरोधी दवाओं के साथ उपचार का प्रयास किया जा सकता है। इसके लिए आप पशुओं के डॉक्टर से मिल सकते है, वह आपको उचित सलाह दे देंगे।

इनडोर फिश फार्मिंग के फायदे

इनडोर फिश फार्मिंग का सबसे बड़ा फायदा यह है की इसे आप अपनी देख रेख में कर सकते है मतलब आप ज्यादा से ज्यादा ध्यान रख सकते है, मछली को शुभ माना जाता है ऐसी परिस्थिति में आपके घर में सकरात्मक ऊर्जा रहेगी।

Fish Farming: मछली पालन घर पर कैसे कर सकते है? – Tweet This?

RELATED ARTICLES

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

- Advertisment -
Sidebar banner

Most Popular

Recent Comments