FPO (Farmer Producer Organization) कैसे काम करता है ?

0
35
FPO Registration
FPO Registration

Farmer Producer Organization किसान उत्पादक संगठन छोटे, सीमांत किसानों का समूह हैं जो अपनी आजीविका में सुधार के लिए मिलकर काम करते है।
किसान उत्पादक संगठन (एफपीओ) के लिए योग्य होने के लिए निम्नलिखित आवश्यकताओं को पूरा करना आवश्यक है। किसान को समूह का हिस्सा होना चाहिए। संगठन का सरकारी पंजीकरण आवश्यक है। किसानों के पास दो हेक्टेयर से अधिक भूमि नहीं होनी चाहिए।

एफपीओ का सदस्य कौन बन सकता है?

किसान उत्पादक संगठन (एफपीओ) के लिए पात्रता स्थापित करने के लिए, कुछ मानदंडों को पूरा किया जाना चाहिए: एफपीओ में सदस्यता चाहने वाले व्यक्तियों को किसान होना चाहिए, और एफपीओ को स्वयं सरकार के साथ आधिकारिक तौर पर पंजीकृत होना चाहिए। एफपीओ में शामिल होने के लिए पात्र किसानों को इसके अंतर्गत आना चाहिए। छोटे या सीमांत किसानों की श्रेणी, जिनके पास 2 हेक्टेयर या उससे कम भूमि का आकार है, एफपीओ में सदस्यता चाहने वाले किसानों को उसी जिले या गांव का निवासी होना चाहिए, जिससे स्थानीय समुदाय का प्रतिनिधित्व सुनिश्चित हो सके। एफपीओ के सदस्यों को उसी की खेती में संलग्न होना चाहिए या समान फसलें, संगठन के भीतर साझा कृषि फोकस को बढ़ावा देना एफपीओ को एक कानूनी इकाई के रूप में मान्यता प्राप्त है, इसके परिचालन ढांचे को बनाए रखने के लिए 10 किसानों की न्यूनतम सदस्यता और 500 किसानों की अधिकतम सदस्यता सीमा की आवश्यकता होती है।

FPO के फायदे

इस योजना के माध्यम से संगठनों को 15 लाख रुपए की आर्थिक सहायता सरकार द्वारा प्रदान की जाएगी। अब देश के किसान को खेती में भी कारोबार की तरह लाभ मिलेगा। पीएम किसान एफपीओ योजना का लाभ उठाने के लिए कम से कम 11 किसानों को संगठित होकर अपनी कृषि कंपनी बनानी होगी।

  • एफपीओ के माध्यम से किसानों को तकनीकी, मार्केटिंग, ऋण, प्रोसेसिंग, सिंचाई आदि जैसी सुविधाएं प्रदान की जाती है।
  • इस योजना के माध्यम से किसान 15 लाख रुपए तक का ऋण भी ले सकते हैं।
  • एफपीओ को इंडियन कंपनीज एक्ट के अंतर्गत रजिस्टर करवाया जा सकता है।
  • इसके अलावा इस संगठन के माध्यम से किसानों को बीज, खाद, मशीनरी, मार्केट लिंकेज, ट्रेनिंग, नेटवर्किंग, वित्तीय सहायता आदि जैसी सुविधाएं भी प्रदान की जाती है।
  • इस संगठन का लक्ष्य किसानों को हर कार्य संभव मदद प्रदान करना होता है।
  • यह संगठन किसानों को उत्पादन बढ़ाने में भी सहायता प्रदान करता है।
  • इस योजना के अंतर्गत प्रत्येक जिले के ब्लॉक में एक एफपीओ होना चाहिए।
  • यह संगठन उन जिलों में प्राथमिकता पर संगठित किया जाएगा जो एस्पिरेशनल होते हैं।
    एफपीओ के माध्यम से पर्याप्त प्रशिक्षण और हैंड हैंडलिंग प्रदान की जाती है इसके अलावा सीबीओ के स्तर से प्राथमिक प्रशिक्षण भी प्रदान किया जाता है।

नॉर्थईस्ट एवं पहाड़ी इलाकों में एक एफपीओ में कम से कम 100 सदस्य होने चाहिए और मैदानी इलाकों में एक एफपीओ में कम से कम 300 सदस्य होने चाहिए।

एफपीओ योजना की पात्रता –

  • आवेदक पेशे से किसान होना चाहिए।
  • आवेदक भारतीय नागरिक होना चाहिए।
  • एफपीओ के पास स्वयं की कृषि योग्य भूमि होनी अनिवार्य है एवं उसे समूह का हिस्सा होना भी अनिवार्य है।

महत्वपूर्ण दस्तावेज-

  • आधार कार्ड
  • निवास प्रमाण पत्र
  • जमीन के कागजात
  • राशन कार्ड
  • आय प्रमाण पत्र
  • पासपोर्ट साइज फोटोग्राफ
  • बैंक खाता विवरण
  • मोबाइल नंबर
    एफपीओ में पंजीकरण कैसे करे-
  • सर्वप्रथम आपको राष्ट्रीय कृषि बाजार की आधिकारिक वेबसाइट पर जाना होगा
    https://enam.gov.in/web/
FPO Registration
FPO Registration
  • होम पेज पर आपको एफपीओ के विकल्प पर क्लिक करना होगा।
FPO Regsitration
FPO Regsitration
  • अब आपके सामने रजिस्ट्रेशन फॉर्म खुल कर आएगा।
FPO Registration
FPO Registration

आपको फॉर्म में निम्नलिखित जानकारी दर्ज करनी होगी।
रजिस्ट्रेशन टाइप
रजिस्ट्रेशन लेवल
फुल नेम
जेंडर
एड्रेस
डेट ऑफ बर्थ
पिन कोड
डिस्ट्रिक्ट
फोटो आईडी टाइप
मोबाइल नंबर
ईमेल आईडी
कंपनी नेम
स्टेट
तहसील
फोटो आईडी नंबर
अल्टरनेट मोबाइल नंबर
लाइसेंस नंबर
कंपनी रजिस्ट्रेशन
बैंक नेम
अकाउंट होल्डर नेम
बैंक अकाउंट नंबर
आईएफएससी कोड
इसके पश्चात आपको पासबुक या फिर कैंसिल चेक एवं आईडी प्रूफ को स्कैन करके अपलोड करना होगा।
अब आपको सबमिट के विकल्प पर क्लिक करना होगा।
इस प्रकार आप एफपीओ योजना के अंतर्गत आवेदन कर पाएंगे।
आगे अंको में हम बताएँगे की आप एफपीओ से ज्यादा लाभ कैसे ले सकते है।

खेती किसानी से सम्बंधित जानकारी के लिए हमे subscribe जरूर करे

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें