होमग्रेस मार्क्स प्राप्त परीक्षा में प्रतिभागियों की संख्या बहुत कम रही

ग्रेस मार्क्स प्राप्त परीक्षा में प्रतिभागियों की संख्या बहुत कम रही

Re-NEET परीक्षा में ग्रेस मार्क्स प्राप्त छात्रों में से कितनों ने परीक्षा दी?

Re-NEET UG: नीट मामले में सीबीआई ने पहली एफआईआर की दर्ज, ग्रेस मार्क्स प्राप्त छात्र के लिए पुनः आयोजित परीक्षा में लगभग 50% उपस्थिति रही।

नीट मामले में केंद्र सरकार एक्शन मोड में आ गई है, वहीं जांच एजेंसियां भी सक्रिय हो गई है। सीबीआई को इस पूरे मामले की जांच सौंप दी गई है। केंद्र सरकार ने बड़ा फैसला लिया है, एनटीए के डीजी को भी हटा दिया गया है। वही इस मामले में कई गिरफ्तारियां भी हो रही है।

विपक्ष भी सरकार का विरोध कर रही है। इसी बीच 5 मई को हुई नीट की परीक्षा (NEET Exam) में ग्रेस मार्क्स पाए जाने वाले परीक्षार्थी के लिए फिर से परीक्षा आयोजित की गई है। आपको बता दे की पांच राज्यों में नीट की परीक्षा फिर से आयोजित हुई है, लेकिन 1563 छात्रों में से सिर्फ 816 छात्र परीक्षा देने आए।

यह भी पढ़ें – नीट के विवादों के बीच बड़ा फैसला, एनटीए के डीजी सुबोध कुमार सिंह को पद से हटाया गया

करीब 52 फ़ीसदी परीक्षार्थी ही री-नीट की परीक्षा (Re-NEET Exam) में शामिल हुए। 750 बच्चे री एग्जाम में शामिल नहीं हुए। यह परीक्षा तो महज़ 1563 छात्रों के लिए थी। लेकिन अगर सीबीआई की जांच में धांधली साबित हो जाती है तो 8 जुलाई को सर्वोच्च अदालत परीक्षा को रद्द कर देगी।

लेकिन कई बच्चों का कहना है कि यह सिस्टम की लापरवाही है तो इसका खामियाजा हम क्यों भुगते। कई छात्र ऐसे भी है जो दोबारा नीट की परीक्षा (NEET Exam) नहीं चाहते हैं। पेपर लीक और धांधली को देखते हुए शिक्षा मंत्रालय ने मामले को गंभीरता को देखते हुए सीबीआई को जांच का जिम्मा सौंप दिया है और सीबीआई ने पहली एफआईआर भी दर्ज कर लिया है।

आईपीसी के सेक्शन 120(बी) यानी कि क्रिमिनल कंस्पायरेसी और धारा 420 यानी चीटिंग समेत कई धारा में एफआईआर दर्ज की गई है।

ग्रेस मार्क्स प्राप्त परीक्षा में प्रतिभागियों की संख्या बहुत कम रही – Tweet This?

RELATED ARTICLES

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

- Advertisment -
Sidebar banner

Most Popular

Recent Comments