होमपर्यावरणकौन है 'ट्री मैन ऑफ़ हरियाणा' जिन्होंने लगाए 3 लाख पेड़

कौन है ‘ट्री मैन ऑफ़ हरियाणा’ जिन्होंने लगाए 3 लाख पेड़

पुलिस कांस्टेबल देवेंद्र सुरा जिन्हें सब ‘ट्री मैन ऑफ़ हरियाणा’ के नाम से जानते हैं। जहां लोग आज के दौर में आगे बढ़ाने के लिए कोई सेलिब्रिटी या पॉलिटिशियन से प्रेरित होते हैं वही यह एक शहर से प्रेरित हुए हैं। 2011 मैं देवेंद्र चंडीगढ़ में सिपाही के पद पर भर्ती हुए थे और चंडीगढ़ के हरे-भरे माहौल में इतना ढल गए, इनको यहां की हरियाली इतनी पसंद आई यह इससे इतने प्रेरित हुए कि इन्होंने भी पेड़ लगाने का मन बना लिया। जहां एक तरफ लोग अपनी ज़रूरतें पूरी करने के लिए पेड़ काट रहे हैं वहीं दूसरी तरफ देवेंद्र सुरा ने 3 लाख पेड़ लगाकर एक मिसाल कायम करदी है।

देवेंद्र सुरा यह भी मानते है कि पेड़ लगाने से सिर्फ व्यक्तियों को ही नहीं बल्कि पक्षियों, जीव जंतु और पशुओं को भी बहुत फायदा और जरूरत है। ये हमें यह भी बताते हैं की प्रकृति का देश के लिए इससे अच्छा काम नहीं हो सकता।

इन्होंने इसकी शुरुआत 2014 में की थी और इसके बाद यह एक के बाद एक पेड़ लगाते चले गए। सबसे पहले इन्होंने अपने घर के आंगन में पेड़ लगाया था। आज इनकी पहुंच हरियाणा से दिल्ली तक है। यह हरियाणा से दिल्ली तक पेड़ लगा चुके हैं। यह 256 गांव में पेड़ लगवा चुके हैं, लेकिन अब यह अकेले नहीं है इनके साथ दस हजार पर्यावरण मित्र जुड़ चुके हैं।

यह नेक काम करते-करते इन्हें 10 साल बीत चुके हैं। इनके पास ना तो कोई बंगला है और ना ही कोई गाड़ी फिर भी उनके चेहरे पर हमेशा एक पॉजिटिव स्माइल रहती है।

देवेंद्र हमें यह भी बताते हैं कि वह साइकिल से ही सब काम करते हैं जैसे ड्यूटी जाना या कहीं भी आसपास जाना हो वह साइकिल से ही जाते हैं।लंबी दूरी के लिए यह रेलगाड़ी या बस से यात्रा करते हैं।

देवेंद्र सुरा एक बहुत साधारण इंसान है और वह सबको खुश रहने का एक मैसेज देते हैं वह कहते हैं ज्यादा से ज्यादा साधारण जीवन जियो, साधारण भोजन करो, साधारण कपड़े पहनो, साइकिल का प्रयोग करो इससे आपकी हेल्थ भी अच्छी रहेगी। वह सबसे एक अपील करते हैं कि अपने जन्मदिन या अपने जीवन में हर वर्ष एक पेड़ लगाओ। देवेंद्र सुरा हम सबके लिए एक इंस्पिरेशन हैं।

RELATED ARTICLES

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

- Advertisment -
Sidebar banner

Most Popular

Recent Comments