होमवर्ल्डक्या ब्रिटेन के चुनाव में प्रवासी वोट से पड़ेगा बड़ा प्रभाव

क्या ब्रिटेन के चुनाव में प्रवासी वोट से पड़ेगा बड़ा प्रभाव

आज के दिन यानि की 4 जुलाई को ब्रिटेन में चुनाव आयोजित किए गए। कई पार्टियों ने अपने प्रस्ताव जनता के सामने रखे हैं लेकिन चुनावी लड़ाई दो प्रमुख पार्टियों के बीच ज्यादा दिख रही हैं जिसमें से एक ऋषि सुनक कि कंजर्वेटिव पार्टी और दूसरी कीर स्टारमर कि लेबर पार्टी हैं। सर्वेक्षणों के मुताबिक लेबर पार्टी का पलड़ा भारी नज़र आ रहा हैं। हालांकि कंजर्वेटिव पार्टी जो सेंटर राइट विचारधारा रखती हैं। लेबर पार्टी जो सेंटर लेफ्ट विचारधारा कि हैं।
लेकिन इस बार के चुनाव का बड़ा मुद्दा महँगाई है। दोनों पार्टियां यह दावा तो कर रही हैं कि वो जनता की समस्याओं का निवारण करेंगी। महँगाई से ग्रसित प्रवासी जो एक बड़ी संख्या में दक्षिणी एशिया से हैं वो ब्रिटेन के वोट बैंक में भी गिने जाते हैं।
यहां के चुनाव हमेशा गुरुवार को ही रखे जाते हैं। मतदान का समय सुबह 7 बजे से रात 10 बजे तक होता हैं। मतदान के तुरंत बाद वोटों कि गिनती शुरू कर दी जाती हैं। ब्रिटेन में कुल 650 सीट पर मतदान हो रहे हैं।
यहां के आम चुनाव में भारतीय मतदाताओं कि संख्या ज़्यादा होने के कारण वह एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं। इसी बात के मद्दे नज़र रखते हुए सत्ताधारी कंजर्वेटिव पार्टी ने 30 भारतीय मूल के चेहरे मैदान में उतारे हैं, लेकिन इसके साथ ही लेबर पार्टी ने भी 33 भारतीय मूल के लोगों को चुनाव में उतारा हैं।
अब देखने वाली बात यह है कि सुनक फ़िर से प्रधानमंत्री बन पाएंगे की,कीर स्टारमर मार लेंगे बाजी।

RELATED ARTICLES

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

- Advertisment -
Sidebar banner

Most Popular

Recent Comments