Monday, May 20, 2024
होमHealthकिडनी (Kidney) को स्वस्थ कैसे रखे

किडनी (Kidney) को स्वस्थ कैसे रखे

गुर्दा (Kidney) मानव शरीर का एक महत्वपूर्ण अंग है। किडनी की खराबी, किसी गंभीर बीमारी या मौत का कारण भी बन सकता है। इसकी तुलना सुपर कंप्यूटर के साथ करना उचित है क्योंकि किडनी की रचना बड़ी अटपटी है और उसके कार्य अत्यंत जटिल हैं उनके दो प्रमुख कार्य हैं – हानिकारक अपशिष्ट उत्पादों और विषैले कचरे को शरीर से बाहर निकालना और शरीर में पानी, तरल पदार्थ, खनिजों (इलेक्ट्रोलाइट्स के रूप में सोडियम, पोटेशियम आदि) नियमन करना है

About Kidney
About Kidney

किडनी(Kidney) का स्वस्थ रहना कितना जरुरी है इसको समझने के लिए आपको यह जानना होगा की किडनी क्या काम करता है

  • खून का शुद्धीकरण
  • अपशिष्ट उत्पादों को निकलना
  • शरीर में पानी का संतुलन
  • अम्ल एवं क्षार का संतुलन
  • खून के दबाव पर नियंत्रण
  • रक्तकणों के उत्पादन में सहायता
  • हडिड्यों की मजबूती

जब हमारे खून में क्रिएटिनिन बढ़ने लगता है तो समझ लेना चाहिए की हमारा किडनी स्वस्थ रूप से काम नहीं कर रहा है, क्रिएटिनिन एक तरह का जहर है जो हमारे ब्लड सेल को नुकसान पहुंचाता है । क्रिएटिनिन एक ऐसा अपशिष्ट पदार्थ है, जो किडनी सहित शरीर के कई अंगों को गंभीर रूप से नुकसान पहुंचा सकता है, इसे बाहर निकालने के लिए आप दवाईयां भी ले सकते है। आप इसे कम करने के लिए बहुत सारे घरेलु उपाय भी कर सकते है,आपको बता दें कि क्रिएटिनिन एक अपशिष्ट उत्पाद है जो खून में तब बनता है, जब किडनी सामान्य रूप से कार्य नही करती है ।

किसान सत्ता के इस अंक में हम आपको बताते है की कौन कौन सी चीजों के सेवन से आप घर बैठे इसका इलाज कर सकते है

आंवला-

आंवला
आंवला

आंवला खून को साफ करके शरीर को डिटॉक्सीफाई करने में मदद करता है। लोग किडनी फेलियर और डायबिटीज से अक्सर एक साथ पीड़ित होते हैं। इसलिए ऐसे लोगों के लिए आंवला ब्लड शुगर और क्रिएटिनिन दोनों को नियंत्रित करने में मदद करके दोनों बीमारियों को मैनेज करने में मदद करता है। किडनी की बीमारी से पीड़ित मरीजों में अक्सर इम्यूनिटी कम होती है। आंवला में प्रचुर मात्रा में विटामिन C पाए जाने के कारण इससे इम्यूनिटी बढ़ती है।

हल्दी-

हल्दी
हल्दी

हल्दी पीले और नारंगी रंग का मसाला होता है जिसका आयुर्वेदिक उपायों में उपयोग किया जाता है। हल्दी से स्वास्थ्य को कई लाभ मिलते है। हल्दी किडनी के कार्य को बेहतर बनाने में भी मदद करती है। हल्दी में सक्रिय यौगिक करक्यूमिन, एंटी इंफ्लेमेटरी और एंटीऑक्सीडेंट गुण होता है। इन सभी की वजह से किडनी में सूजन और ऑक्सीडेटिव स्ट्रेस कम होता है। अपने भोजन में हल्दी शामिल करना या गर्म दूध में हल्दी डालकर पीने से क्रिएटिनिन के लेवल को कम करने में मदद मिलती है। इसके अलावा चूंकि हल्दी में एंटीसेप्टिक गुण होते हैं, इसलिए यह शरीर को संक्रमण से लड़ने में भी मदद करती है।

खीरा-

खीरा
खीरा

खीरा अपने कूलिंग करने वाले गुण के लिए जाना जाता है। आयुर्वेद में खीरे को किडनी के स्वास्थ्य के लिए फायदेमंद बताया गया है। खीरे को अपने डाइट में शामिल करने से फाइबर और विभिन्न पोषक तत्व मिल सकते हैं। खीरा खाने से मूत्र का उत्पादन बढ़ता है और क्रिएटिनिन जैसे अपशिष्ट उत्पादों को खत्म करने में मदद मिलती है।

साबुत अनाज-

साबुत अनाज
साबुत अनाज

आयुर्वेद साबुत अनाज जैसे जौ, बाजरा और भूरे चावल के सेवन को अच्छा मानता है। ये अनाज फाइबर, विटामिन और मिनरल से भरपूर होते हैं और किडनी के लिए ये पौष्टिक और अच्छे माने जाते हैं। इन अनाजों को अपने डाइट में शामिल करने से किडनी के स्वास्थ्य को बेहतर बनाने, ऊर्जा बढ़ाने और क्रिएटिनिन के लेवल को कम करने में मदद मिल सकती है।

अनार-

अनार
अनार

अनार में एंटीऑक्सीडेंट गुण और पुनिकैलागिन ज्यादा मात्रा में पाए जाते हैं इसलिए ये किडनी को नुकसान से बचाने और क्रिएटिनिन के लेवल को कम करने में मदद करते हैं। ताजा अनार खाने या जूस पीने से किडनी को स्वस्थ रखा जा सकता है।

आपको स्वस्थ रखने में किडनी का बड़ा योगदान होता है इसलिए इसका ख्याल रखे

किडनी (Kidney) को स्वस्थ कैसे रखे- Tweet This?

RELATED ARTICLES

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

- Advertisment -
Sidebar banner

Most Popular

Recent Comments