Wednesday, May 29, 2024
होमNewsबृजभूषण के सियासी रसूख़ को नहीं नकार पाई BJP?

बृजभूषण के सियासी रसूख़ को नहीं नकार पाई BJP?

क्या Brij Bhushan Singh का सियासी रसूख़ बरक़रार है ?

उत्तर प्रदेश की राजनीति में खासकर पूर्वांचल में यहां की कई लोकसभा सीटों से जीत दर्ज कर 6 बार दिल्ली पहुंचे Brij Bhushan Singh मौजूदा चुनाव में काफी चर्चा में हैं क्योंकि महिला पहलवानों द्वारा शोषण के आरोप लगाए जाने के बाद बृजभूषण सिंह का मामला दिल्ली की राउज़ एवेन्यू कोर्ट में विचाराधीन है।

ऐसे में विपक्षी दल भाजपा को लगातार घेरते हुए दिखाई दे रहे हैं जिस वजह से उत्तर प्रदेश की राजनीति में लंबे समय से उनके टिकट को लेकर तरह-तरह की अटकलबाजियां की जा रही थी क्योंकि भाजपा उत्तर प्रदेश की कुल 80 सीटों में से 75 पर चुनाव लड़ रही है जिनमें से एक के बाद एक 73 सीटों पर अपने उम्मीदवारों की घोषणा कर दी थी, Brij Bhushan Singh की सीट कैसरगंज समेत रायबरेली सीट लंबे समय से अपने प्रत्याशी के प्रतीक्षा में थी!

नामांकन की आखिरी बेला में भाजपा ने दोनों सीटों पर प्रत्याशियों का ऐलान कर दिया रायबरेली से दिनेश प्रताप सिंह तो वहीं कैसरगंज से Brij Bhushan Singh के बेटे उत्तर प्रदेश कुश्ती संघ के अध्यक्ष करण भूषण सिंह को उम्मीदवार बनाया तो सियासी गलियारों में लग रही तमाम अटकलबाजियों पर विराम लग गया। पूर्वांचल की सियासत को करीब से जानने वाले कुछ वरिष्ठ राजनीतिक विश्लेषकों से वार्ता करने पर कई तथ्य सामने आए हैं।

जानकार बताते हैं कि पूर्वांचल की राजनीति में Brij Bhushan Singh का अपना एक अलग ही औरा है बृजभूषण शरण सिंह साल 1991 में पहली बार गोंडा लोकसभा का चुनाव भाजपा के टिकट पर लड़े और जीत हासिल की तब से उन्होंने पीछे मुड़कर नहीं देखा, 2004 में क्षेत्र बदलने के बाद भी वह बलरामपुर लोकसभा सीट से जीते इसके बाद में भाजपा से अनबन के बाद सपा के टिकट पर भी कैसरगंज लोकसभा चुनाव में जीत दर्ज की।

छह बार अलग-अलग लोकसभा सीटों से जीत दर्ज करने वाले बृजभूषण की गोंडा, बलरामपुर, कैसरगंज समेत अयोध्या और श्रावस्ती लोकसभा में भी अच्छी खासी पैठ मानी जाती है सियासी जानकार बताते हैं कि इसी वजह से तमाम आरोपों के बावजूद भी भाजपा शीर्ष नेतृत्व उनके सियासी रसूख़ को नजरअंदाज नहीं कर पाया और उनके स्थान पर उनके बेटे को टिकट देना पड़ा ।

बृजभूषण के सियासी रसूख़ को नहीं नकार पाई BJP? Tweet This?

RELATED ARTICLES

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

- Advertisment -
Sidebar banner

Most Popular

Recent Comments