Wednesday, May 29, 2024
होमEducationJournalism :भारत में पत्रकार कैसे बनें?

Journalism :भारत में पत्रकार कैसे बनें?

Journalism: भारत एक ऐसा देश है जिसकी संस्कृति विविधतापूर्ण है, इतिहास समृद्ध है और अर्थव्यवस्था तेज़ी से बढ़ रही है, जो इसे पत्रकारों के लिए अपना करियर शुरू करने के लिए एक आदर्श स्थान बनाता है। एक पत्रकार वर्तमान घटनाओं और मुद्दों पर सटीक और निष्पक्ष जानकारी प्रदान करके समाज में एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है, जिससे जनता की राय बनती है। अगर आप भारत में पत्रकार बनना चाहते हैं, तो यहाँ एक करियर गाइड है जो आपको शुरुआत करने में मदद करेगी। शिक्षा की आवश्यकताएँ
भारत में पत्रकार बनने के लिए पत्रकारिता या जनसंचार में डिग्री सबसे पसंदीदा योग्यता है। हालाँकि, अन्य विषयों में डिग्री वाले उम्मीदवार भी पत्रकारिता पाठ्यक्रम, जैसे डिप्लोमा या सर्टिफिकेट कोर्स करके इस क्षेत्र में प्रवेश कर सकते हैं।

भारत में पत्रकारिता और जनसंचार पाठ्यक्रम प्रदान करने वाले कुछ लोकप्रिय संस्थानों में भारतीय जनसंचार संस्थान (IIMC), जामिया मिलिया इस्लामिया, दिल्ली विश्वविद्यालय और सिम्बायोसिस इंस्टीट्यूट ऑफ़ मीडिया एंड कम्युनिकेशन शामिल हैं। लखनऊ में भी पत्रकारिता के लिए बेहतरीन विकल्प हैं, जैसे ख्वाजा मोइनुद्दीन चिश्ती भाषा विश्वविद्यालय, जो BJMC, Mass Com. जैसी डिग्रीयां प्रदान करता है।

 Skills required 

  • भारत में पत्रकार बनने के लिए कई कौशल और योग्यताएँ आवश्यक हैं। यहाँ कुछ प्रमुख कौशल और विचार करने के चरण दिए गए हैं:
  • शिक्षा: पत्रकार बनने के लिए आमतौर पर पत्रकारिता या जनसंचार में डिग्री की आवश्यकता होती है। भारत में कई विश्वविद्यालय और कॉलेज ऐसे पाठ्यक्रम प्रदान करते हैं, जिनमें भारतीय जनसंचार संस्थान और एशियाई पत्रकारिता महाविद्यालय शामिल हैं।
  • लेखन और संचार कौशल: एक पत्रकार के लिए मजबूत लेखन कौशल आवश्यक है। इसके अतिरिक्त, पत्रकारों को प्रिंट, ऑनलाइन और प्रसारण सहित विभिन्न माध्यमों में प्रभावी ढंग से संवाद करने में सक्षम होना चाहिए।
  • शोध कौशल: पत्रकारों को गहन शोध करने और अपने काम की तथ्य-जांच करने में सक्षम होना चाहिए। इसके लिए विवरण पर ध्यान देने और सटीकता के प्रति प्रतिबद्धता की आवश्यकता होती है।
  • आलोचनात्मक सोच कौशल: पत्रकारों को जानकारी का विश्लेषण करने और महत्वपूर्ण विवरणों की पहचान करने में सक्षम होना चाहिए। उन्हें पूर्वाग्रह की पहचान करने और तथ्य को राय से अलग करने में भी सक्षम होना चाहिए।
  • अनुकूलनशीलता: पत्रकारिता एक तेज़ गति वाला क्षेत्र है जिसके लिए अनुकूलनशीलता और दबाव में काम करने की क्षमता की आवश्यकता होती है। पत्रकारों को समय सीमा को पूरा करने और एक साथ कई परियोजनाओं पर काम करने में सक्षम होना चाहिए।
  • नेटवर्किंग कौशल: पत्रकारिता के क्षेत्र में संपर्कों का नेटवर्क बनाना महत्वपूर्ण है। पत्रकारों को स्रोतों और सहकर्मियों के साथ संबंध स्थापित करने में सक्षम होना चाहिए।
  • नैतिकता: पत्रकारों को सटीकता, निष्पक्षता और वस्तुनिष्ठता सहित नैतिक मानकों का पालन करना चाहिए। ईमानदारी बनाए रखना और हितों के टकराव से बचना महत्वपूर्ण है।
  • प्रौद्योगिकी कौशल: आज के डिजिटल युग में, पत्रकारों को क्षेत्र में उपयोग की जाने वाली विभिन्न तकनीकों और सॉफ़्टवेयर से परिचित होना चाहिए। इसमें सोशल मीडिया, डिजिटल एडिटिंग सॉफ़्टवेयर और ऑनलाइन प्रकाशन प्लेटफ़ॉर्म शामिल हैं।

इंटर्नशिप और कार्य अनुभव: पत्रकारिता में व्यावहारिक अनुभव आवश्यक है। इंटर्नशिप और कार्य अनुभव क्षेत्र में व्यावहारिक प्रशिक्षण और अनुभव प्रदान कर सकते हैं। उपर्युक्त कौशल और योग्यता प्राप्त करके, आप भारत में एक सफल पत्रकार बनने के लिए एक मजबूत आधार तैयार कर सकते हैं।

 

भारत में पत्रकार (Journalism) बनने के पाठ्यक्रम भारत में महत्वाकांक्षी पत्रकारों के लिए कई पाठ्यक्रम उपलब्ध हैं। यहाँ कुछ लोकप्रिय पाठ्यक्रम दिए गए हैं:
  • बैचलर ऑफ जर्नलिज्म एंड मास कम्युनिकेशन (BJMC) – BJMC कोर्स तीन साल का स्नातक पाठ्यक्रम है जो पत्रकारिता और जनसंचार के विभिन्न पहलुओं जैसे रिपोर्टिंग, संपादन, समाचार लेखन और प्रसारण पत्रकारिता को कवर करता है।
  • पोस्ट ग्रेजुएट डिप्लोमा इन जर्नलिज्म (PGDJ) – यह एक साल का स्नातकोत्तर डिप्लोमा कोर्स है जो पत्रकारिता और संबंधित क्षेत्रों जैसे मीडिया नैतिकता, मीडिया कानून और मीडिया प्रबंधन में विशेष प्रशिक्षण प्रदान करता है।
  • पत्रकारिता में डिप्लोमा – यह एक वर्षीय डिप्लोमा कोर्स है जो पत्रकारिता के बुनियादी सिद्धांतों जैसे समाचार एकत्रीकरण, समाचार लेखन और रिपोर्टिंग पर केंद्रित है।
  • पत्रकारिता और जनसंचार में परास्नातक (एमजेएमसी) – यह दो वर्षीय स्नातकोत्तर पाठ्यक्रम है जो पत्रकारिता और जनसंचार में उन्नत प्रशिक्षण प्रदान करता है।
  • पत्रकारिता में कला स्नातक (बीए) – यह तीन वर्षीय स्नातक पाठ्यक्रम है जो मीडिया नैतिकता, समाचार एकत्रीकरण और लेखन जैसे विषयों की एक विस्तृत श्रृंखला को कवर करता है।
  • टेलीविजन पत्रकारिता में डिप्लोमा – यह एक वर्षीय डिप्लोमा कोर्स है जो विशेष रूप से टेलीविजन पत्रकारिता पर केंद्रित है, जिसमें कैमरा वर्क, स्क्रिप्टिंग और संपादन शामिल है।

Journalism :भारत में पत्रकार कैसे बनें?- Tweet This?

RELATED ARTICLES

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

- Advertisment -
Sidebar banner

Most Popular

Recent Comments