Wednesday, April 17, 2024
होमNewsनए संसद भवन में क्या-क्या है, बहिष्कार के बहाने विपक्षी एकता का...

नए संसद भवन में क्या-क्या है, बहिष्कार के बहाने विपक्षी एकता का आविष्कार? पहली बार 19 दल साथ

नए संसद भवन के बारे में जानने से पहले ये जानिए कि देश के 19 राजनीतिक दलों ने नए संसद भवन के उद्घाटन कार्यक्रम के बहिष्कार का ऐलान किया है। इनमें प्रमुख दल हैं – कांग्रेस, सीपीएम, सीपीआई, आरजेडी, डीएमके, एनसीपी, शिवसेना यूबीटी, टीएमसी और आप। झारखंड मुक्ति मोर्चा जैसी क्षेत्रीय पार्टियां भी इन 19 दलों में शामिल हैं। नए संसद भवन का 28 मई को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी दिल्ली के सेंट्रल विस्टा में उद्घाटन करने वाले हैं।

नए संसद भवन का बहिष्कार क्यों?

नया संसद भवन सेंट्रल विस्टा का हिस्सा है। प्रधानमंत्री मोदी ने 10 दिसंबर 2020 को इसका शिलान्यास किया था। उस समय देश में कोरोना चरम पर था। विपक्ष ने उस समय भी कहा था कि इस पर खर्च किए जा रहे करोड़ों रुपये गैर जरूरी हैं। बताते चलें कि नए संसद भवन के बनाने पर करीब 1200 करोड़ रुपये खर्च हुए हैं।
नए संसद भवन का जब शिलान्यास हुआ था तो केंद्र की मोदी सरकार ने उस कार्यक्रम में भी तत्कालीन राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद को नहीं बुलाया था। विपक्षी दलों ने कोरोना काल में इसके निर्माण को फिजूलखर्ची यह कहकर बताया था कि अभी जब पुरानी बिल्डिंग से काम चल रहा है तो नए की जरूरत क्या है। वो भी जब देश में भयानक आपदा आई हो। आपदा के बाद भी अभी भी अर्थव्यवस्था की हालत सुधरी नहीं है। लेकिन विपक्ष ने अब जो 28 मई के कार्यक्रम के बहिष्कार की घोषणा की है, वो राष्ट्रपति को नहीं बुलाने को लेकर है।

New Parliament Building - HCP Design, Planning and Management Pvt. Ltd.

सेंट्रल विस्टा परियोजना राष्ट्रपति भवन और इंडिया गेट के बीच का क्षेत्र है, जहां केंद्र सरकार से संबंधित सभी महत्वपूर्ण भवन स्थित हैं। इस परियोजना के दो मुख्य भाग हैं, एक नया संसद भवन और केंद्र सरकार के सभी मंत्रालयों को एक स्थान पर लाने के लिए एक नया सचिवालय परिसर। तीसरे भाग में राजघाट और उसके आसपास के क्षेत्र का विकास शामिल है, जो आम जनता के लिए उपलब्ध है, जिसमें सार्वजनिक सुविधाओं का विकास भी शामिल है। इस परियोजना में क्षेत्र में कुछ गैर-विरासत भवनों को ध्वस्त करना और उनके स्थान पर नए भवनों का निर्माण शामिल है।

नए संसद भवन में क्या-क्या

नए संसद भवन में एक लोकसभा हॉल, एक राज्यसभा हॉल, एक आंगन के चारों ओर एक लाउंज और एक केंद्रीय स्थान होगा जिसे संविधान गैलरी कहा गया है। इसमें एक अलग सेंट्रल हॉल नहीं होगा, क्योंकि लोकसभा में संयुक्त सत्र आयोजित करने के लिए बैठने की पर्याप्त क्षमता होगी। त्रिकोणीय भवन में लोकसभा उत्तर-पश्चिम कोने में, राज्यसभा दक्षिण-पश्चिम कोने पर और लाउंज पूर्वी कोने में है। भवन के बाहरी किनारों पर, घरों के आसपास और लाउंज में कार्यालय होंगे। नए लोकसभा हॉल की क्षमता 876 सीटों की है। लेकिन सीटें आकार में बहुत बड़ी हैं, और वे वास्तव में 1350 व्यक्तियों को समायोजित कर सकती हैं। इसलिए, यहां संसद के संयुक्त सत्रों को आसानी से आयोजित किया जा सकेगा। संयुक्त सत्र के लिए अलग हॉल की आवश्यकता अब नहीं होगी।

लोकसभा की तरह ही नए संसद भवन में राज्यसभा भी काफी बड़ी है। इसमें 400 सीटें हैं।

Budget Session 2023: President's address likely in new Parliament - SEE  PICS | India News – India TV

RELATED ARTICLES

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

- Advertisment -
Sidebar banner

Most Popular

Recent Comments